Budhaape Tu Kab Aayega?

Uljhan hai jawaani,
Dil fareb kahaani,
Ye bachpan mein koi nahi bataayega.
Itne saare loche,
Gabru bhi soche,
Budhaape tu kab aayega?

Future kathor,
Itihaas se bore, par
Aaj? Aaj tu James Bond hai!
Aajaata hun on the beach,
Par photo na hi kheench…
Tshirt ke neeche tond hai.

Aish ki planning, aur
Plan ki bashing
Dono ek hi sitting mein ho gaye.
Do-do peg lagaate, aur
Yaaron ko dukhde sunaate, par
Saale saare piyakkad so gaye.

Masters ki admission ya,
Naukri mein promotion,
Mehnat toh badi ki hai, bas luck chal jaaye…
Waqt ki kadiyaan
Pataakhon ki ladiyaan
Rokna chahoon toh haath jal jaaye.

Chaar chullu vodka, aur
Kisi ne ni roka, toh
Gaadi divider mein maar di.
Kya bandi pataayi thi,
Kya goggles lagaayi thi, par
Baarish thi toh utaar di.

Bande hum dabangg hain, par
Life se thode tang hain –
Laakhon khwahishon pe choke kar rahe hain.
Ye jahaan bawaal hai,
Chain ka akaal hai,
Tabhi abhi … thoda joke kar rahe hain.

Advertisements

बस इक पल के लिए

थम जाए अगर ये दुनिया
बस इक पल के लिए,
थोड़ा सा चैन छीन लूँ
बस इक पल के लिए।

ज़िन्दगी का नाम रफ़्तार है
ख़्वाबों का बाज़ार है
खरीदे सपने बेच दूँ
बस इक पल के लिए।

चस्का है कुछ कर जाने का
वादा-ए-तक़दीर निभाने का
अपनी तक़दीर देख लूँ
बस इक पल के लिए।

सुनहरे सपने बीजे हैं
डर की सलाखों के पीछे से
हौंसले की चाबी ढूँढ लूँ
बस इक पल के लिए।

Ye Dhun Gungunaana

Jab dhundhli ho raahein saari
Ghadi ke kaante pad jaayein bhaari
Jab mann aur manzil ke beech mein
Aa jaaye duniyadaari

Toh ye dhun gungunaana
Chintaayein bhool jaana
Yahi hai khushiyaan paane ka
Ek aasaan bahaana.

Asamanjas mein kyon padna,
Jab aage hi hai badna
Toh aaj nahi toh kal
Niklega koi hal

Bas tab tak –
Ye dhun gungunaana
Chintaayein bhool jaana
Yahi hai khushiyaan paane ka
Ek aasaan bahaana.

मुज्ज़फर्नगर के दंगे

टीवी पर न्यूज़ देखी तो दंग रह गये। 
दरअसल जिन से हम मुहब्बत करते हैं
उनका मुज़फ्फरनगर से तालुक़ है,
तो ज़ाहिर है कि सबसे पेहले
उन्ही को फ़ोन किया।

Continue reading

Tum Ho Ki

आराम से बैठे होते यार
किसी छत पे, हुक्के लगाते
घरवालों के दुखड़े सुनते,
दुखड़ों को मरोड़के,
चुटकुले घोलते, ग़ज़लें टटोलते,

और तुम हो की
साली भसड़ मचा रखी है?
अरे!
किसी बगीचे में पान चबाते,
गुल्ले बेगियों की छाओं में
धूप भुलाते,
गर्मियां बिताते,
किस्से सुनाते,
चाय में इलायची भिगोते
पकोड़ों पर सपने तलते
फिर बंद आँखों से उन्हें पचाते
और तुम हो की
साली भसड़ मचा रखी है !
अरे!
दिन तोह मच्छर  मारते भी कट जाते हैं
 दिन ही तो है!
दिन को हमारी तरह और कोई काम नहीं!
भाई, तुम्हें आराम नहीं।
मंजी तो लगा रखी है –
ज़रा बैठ ही जाते?
चारपाई से लम्बे पैंतड़े बुझाते
तुम जय राम गाते, हम क़ुरान सुनाते,
दोनों की नादानियों के शिकवे गिनाते
फिर ऊपर वाले की ताक़त पर ग़ौर फरमाते
ज़रा डर जाते
तुम अल्लाह से क्षमा मांगते,
और हम प्रभु से अर्ज़ी लगाते।
यार,
पालक और संतरों से तिरंगा बनाते!
पतंगें उड़ाते!
हँसते, हँसाते।
और तुम?
तुम हो की
साली भसड़ मचाई है!
जानता हूँ,
शहर में भसड़ मची है
और आज तुम लड़ने आए हो
पर पूरी शाम बची है!
वैसे,
आज ही जलेबियाँ तली हैं,
दो मिनट बैठो तो सही।
ज़रा चख के बताओ
मीठा ठीक है या नहीं?